रचनात्मकता के दीयों से फैलेगा आत्मनिर्भरता का प्रकाश

0
1


Publish Date: | Sun, 18 Oct 2020 06:04 PM (IST)

– 30 विशेष बच्चों ने एक माह में डेकोरेट किए छह हजार दीये

हर्षल सिंह राठौड़

इंदौर (नईदुनिया)।

इस दीपावली पर रंगीन दीयों में झिलमिलाती बाती के साथ आत्मनिर्भरता, स्वाभिमान और खुशियों का उजाला भी फैलेगा। विशेष बच्चों द्वारा बनाए गए खूबसूरत दीयों से न केवल इस दीपावली पर दीपमालाएं सजेंगी बल्कि कई परिवारों में नई रोशनी भी आएगी। शहर के 30 विशेष बच्चों ने एक माह में छह हजार दीये सजाए हैं जिनके जरिए प्राप्त होने वाली सहयोग राशि से न केवल ये बच्चे बेहतर शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे बल्कि मिट्टी के दीये बनाने वाले कुम्हार और अन्य जरूरतमंद दिव्यांग व बुजुर्गों को रोजगार भी मिलेगा। यह पहल शहर की सामाजिक संस्था द्वारा की गई है।

सामाजिक संस्था सरस्वती संस्कार बाल कल्याण समिति में अध्ययनरत छह से 12 वर्ष तक के विशेष बच्चों ने पिछले एक माह में छह हजार दीये एक्रेलिक रंग और चमक से सजाए हैं। युवा सक्षम ग्रुप के सदस्यों की मदद से इन बच्चों ने जो रचनात्मकता दिखाई है उसे प्रोत्साहित करने के लिए छह-छह दीयों के पैकेट बनाए गए हैं। समिति सचिव गुलशन जोशी के अनुसार शुरुआती दौर में तीन कुम्हारों से ये दीये खरीदे गए ताकि उन्हें रोजगार मिल सके। दीये सजाने के बाद इस तरह के कुल एक हजार पैकेट बनाए गए हैं जिन्हें शहर में 20 अलग-अलग स्थानों पर विक्रय हेतु रखा है। कोशिश है कि इन पैकेट से एक लाख रुपये प्राप्त हो सके, जिसमें से दीयों की लागत निकालने के बाद जो 80 हजार रुपये बचेंगे उनमे से 50 प्रतिशत राशि इन विशेष बच्चों की शिक्षा पर व्यय की जाएगी और शेष 50 प्रतिशत राशि से 60 जरूरतमंद वृद्धों और दिव्यांगों को रोजगार के साधन मुहैया कराए जाएंगे।

शुरू कर सकेंगे रोजगार

जिन 60 दिव्यांगों और जरूरतममंद वृद्धों को इसके लिए सूचीबद्ध किया गया है उन्हें अगरबत्ती, धूप बत्ती और रूई की बत्ती के पैकेट विक्रय हेतु दिए जाएंगे। इस तरह प्रति व्यक्ति को 600 रुपये की सामग्री दी जाएगी जिसकी बाजार में कीमत करीब 900 से एक हजार रुपये होगी। विक्रय के बाद यह मुनाफा वे खुद रख सकेंगे और उन 600 रुपये से फिर माल खरीदकर बेच सकेंगे। इस तरह ये दिव्यांग व जरूरतमंद वृद्ध अपना रोजगार शुरू कर सकेंगे। इन विशेष बच्चों का साथ सुभाष पालीवाल, युवा सक्षम ग्रुप के हर्षल कुलकर्णी, हर्ष पारोलकर, हर्ष शर्मा, भूमि और सृष्टि प्रमाल के साथ अन्य 20 युवा शामिल हैं। दीये लाना, पैकेट बनाना और काउंटर तक पहुंचाने के साथ उसका प्रचार करने की जिम्मेदारी इन युवाओं ने निभाई

फोटोः सरस्वती समिति के नाम से है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here