पंजाब में लगातार जारी पराली जलाने का सिलसिला, किसान बोले- हम असहाय हैं

0
0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Updated Sun, 22 Nov 2020 02:21 PM IST

पंजाब में किसान जल रहे पराली
– फोटो: एएनआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

पंजाब में पराली जलाने का सिलसिला नहीं थम रहा। ये तस्वीरें हिंदी के बड़वाल गांव की हैं। प्रशासन की सख्ती के बावजूद किसान पराली जला रहे हैं। किसानों का कहना है कि हम कुछ नहीं कर सकते। हम बिल्कुल असहाय हैं। सरकार हमारी मजबूरी नहीं समझती। हमारे पास पराली जलाने के सिवाय कोई चारा नहीं है।

पराली को आग लगाने वाले किसानों की शिकायत करना पंचायत की जिम्मेदारी होती है। सियासी दखल के चलते कोई भी पंचायत पुलिस और नागरिक प्रशासन को शिकायत नहीं करता है।

पंजाब सरकार का दावा है कि इस बार प्रदेश में पराली जलाने की घटनाओं में कमी है। पंजाब की मुख्य सचिव विनी महाजन के मुताबिक राज्य में पराली जलाने की घटनाओं में पांच प्रतिशत से भी ज्यादा की कमी आई है। उन्होंने अधिकारियों से इस दर में और कमी लाने के निर्देश दिए हैं।

तरनतारन में पराली की आग में जिंदा जल गई थी महिला
कुछ दिन पहले पंजाब के तरनतारन जिले के थाना भीखीविंड के अधीन आते गांव वीरम निवासी मनजीत कौर (62) खेत में जल रही पराली की चपेट में आकर झुलस गया था। निजी अस्पताल से सरकारी अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई। मनजीत कौर पत्नी जोगिंदर सिंह निवासी वीरम अपने गांव से स्कूटी पर सवार होकर अपने पौत्र लवप्रीत सिंह पुत्र हरपाल सिंह के साथ भीखीवंड जा रही थी।

फिरोजपुर में भी होदासा है
वहीं पंजाब के फिरोजपुर के थाना सदर के तहत गाँव चिपें वाला के पास सड़क किनारे खेत में जलाई पराली से फैले धुएं के बीच बसे ने एक कार को टक्कर मार दी। इससे कार आगे जा रही है दूसरी कार से जा टकराई। इस हादसे में पहली कार में सवार बीएसएफ के बहादुर और उनकी बहन एडिशनल सेशन जज गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें जीरा के सरकारी अस्पताल में दाखिल कराया गया।

पंजाब में पराली जलाने का सिलसिला नहीं थम रहा। ये तस्वीरें हिंदी के बड़वाल गांव की हैं। प्रशासन की सख्ती के बावजूद किसान पराली जला रहे हैं। किसानों का कहना है कि हम कुछ नहीं कर सकते। हम बिल्कुल असहाय हैं। सरकार हमारी मजबूरी नहीं समझती। हमारे पास पराली जलाने के सिवाय कोई चारा नहीं है।

पराली को आग लगाने वाले किसानों की शिकायत करना पंचायत की जिम्मेदारी होती है। सियासी दखल के चलते कोई भी पंचायत पुलिस और नागरिक प्रशासन को शिकायत नहीं करता है।

पंजाब सरकार का दावा है कि इस बार प्रदेश में पराली जलाने की घटनाओं में कमी है। पंजाब की मुख्य सचिव विनी महाजन के मुताबिक राज्य में पराली जलाने की घटनाओं में पांच प्रतिशत से भी ज्यादा की कमी आई है। उन्होंने अधिकारियों से इस दर में और कमी लाने के निर्देश दिए हैं।

तरनतारन में पराली की आग में जिंदा जल गई थी महिला
कुछ दिन पहले पंजाब के तरनतारन जिले के थाना भीखीविंड के अधीन आते गांव वीरम निवासी मनजीत कौर (62) खेत में जल रही पराली की चपेट में आकर झुलस गया था। निजी अस्पताल से सरकारी अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई। मनजीत कौर पत्नी जोगिंदर सिंह निवासी वीरम अपने गांव से स्कूटी पर सवार होकर अपने पौत्र लवप्रीत सिंह पुत्र हरपाल सिंह के साथ भीखीवंड जा रही थी।

फिरोजपुर में भी होदासा है
वहीं पंजाब के फिरोजपुर के थाना सदर के तहत गाँव चिपें वाला के पास सड़क किनारे खेत में जलाई पराली से फैले धुएं के बीच बसे ने एक कार को टक्कर मार दी। इससे कार आगे जा रही है दूसरी कार से जा टकराई। इस हादसे में पहली कार में सवार बीएसएफ के संतेंट और उनकी बहन एडिशनल सेशन जज गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें जीरा के सरकारी अस्पताल में दाखिल कराया गया।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here