प्रदेश के सभी जिलों में होगी राशनकार्डों की फिजिकल वैरीफिकेशन, राशन वितरण में फर्जीवाड़ा आया सामने

0
0


चंडीगढ़। हरियाणा के यमुनानगर जिले में राशन वितरण में फर्जीवाड़ा सामने आने पर प्रदेश सरकार ने राज्य के सभी जिलों में राशन कार्डों की फिजिकल वैरीफिकेशन करवाने का फैसला कर लिया है। हरियाणा सरकार द्वारा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को बीपीएल या ओपीएल कार्ड के माध्यम से राशन दिया जाता है। प्रदेश सरकार राशन वितरण में विशेषज्ञता के लिए पहले ही स्मार्ट कार्ड योजना लागू कर चुकी है। जिसके बारे में अब कार्ड धारक के पास पहले की तरह अपने कार्ड में शामिल परिवारक सदस्यों का चेकरा नहीं होता है। इसी तरह के लाभ उठाते हुए कुछ डिपो धारकों ने लेखकीयों के साथ मिलकर राशन कार्ड में नाम बढ़ाने की शुरुआत कर दी। जिसके आधार पर राशन की मात्रा बढ़ गई।

यमुनानगर जिले में जांच की गई तो ऐसे कई राशन कार्ड मिले जिनमें पिछले लगभग एक साल के भीतर नए लोगों के चरण उठाए गए। वैरीफिकेशन करवाई गई तो न तो कार्ड के मालिक को इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी और न ही वह लोग मिले जिनका नाम राशन कार्ड में शामिल किए गए थे। हरियाणा खाद्य आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास के अनुसार यमुनानगर में इस तरह का फर्जीवाड़ा सामने आया था। ऐसे में प्रदेश के अन्य जिलों में भी इस तरह के फर्जी ग्रेड से इनकार नहीं किया जा सकता है। यह आपसी मिलीभगत के बगैर संभव नहीं है। सभी जिलों के डीएफएससी को निर्देश दिए गए हैं कि वह अपने-अपने जिलों में फिजिकल वैरीफिकेशन करवाएं। पिछले छह महीने में मारे गए लोग और नए जुड़े लोगों की धरातल पर वैरीफिकेशन करवाकर रिपोर्ट पूछ चुकी है। उसके बाद ही इसकी वास्तविकता का पता चला।

यह खबर भी पढ़ें: मार्कंक सोमवार को 46 अनलिमिटेड फंक्शन डेवलपमेंट प्रोग्रामिंग का उद्घाटन करेंगे

यह खबर भी पढ़ें: नौसेना को मिला पहला पनडुब्बी रोधी टारपीडो ‘वरुणास्त्र’, भारत की बढ़ेगी समुद्री ताकत





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here