Action Punjab

Breaking News

Captain said, if you have a hobby, then see Sidhu by fighting elections against me from Patiala | कैप्टन ने कहा शौक है तो पटियाला से मेरे खिलाफ चुनाव लड़कर देख लें सिद्धू


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिदधू के बीच काफी लंबे समय से कड़वाहट बनी हुई है। - Dainik Bhaskar

कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिदधू के बीच काफी लंबे समय से कड़वाहट बनी हुई है।

  • सिद्धू फिर बोले- बेअदबी का इंसाफ क्यों नहीं हुआ

अपने बयानों के जरिये अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोले हुए कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आखिरकार खुलकर एक दूसरे के सामने आ गए। मंगलवार सुबह कैप्टन अमरिंदर ने पहली बार आक्रामक होते हुए कहा कि मुझे पता ही नहीं सिद्धू किस पार्टी से है, सिद्धू को कोई पार्टी लेने को तैयार नहीं है। न वह बीजेपी में जाएंगे और न ही उसे अकाली दल अपनी पार्टी में शामिल करेगा, हां आम आदमी पार्टी का मुझे पता नहीं। लेकिन पार्टी में अनुशासनहीनता को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

वह यह स्पष्ट करे कि वह कांग्रेस पार्टी का मैंबर है या नहीं। कैप्टन ने कहा कि अगर आप अच्छा बोल लेते हैं तो यह मतलब नहीं कि आपको हर पद दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, चंद दिनों पहले पार्टी में आए और वह पार्टी प्रधान बनना चाहते हैं। उन्होंने सिद्धू को चैलेंज करते हुए कहा, वह शौक से पटियाला से मेरे खिलाफ चुनाव लड़े, उसकी जमानत जब्त होगी। सिद्धू के साथ भी वैसा ही होगा जैसा अकाली प्रत्याशी जेजे सिंह से हुआ था। उन्होंने जाखड़ की जगह प्रधानगी देने को भी सिरे से नकार दिया।

सिद्धू ने इशारों में साधा कैप्टन पर निशाना

नेतृत्व पे सवाल है? मंशा पे बवाल है!

कैप्टन अमरिंदर के आक्रामक होने के बाद शाम तक सभी की नजरें नवजोत सिद्धू की प्रतिक्रिया पर जमीं हुई थीं। शाम 7 बजे के करीब सिद्धू ने सोशल मीडिया पर पहली पोस्ट कर कहा कि पंजाब की अंतरात्मा की आवाज को दबाने की कोशिशें नाकाम होंगी। उनकी अंतरात्मा पंजाब है और पंजाब की अंतरात्मा गुरु ग्रंथ साहिब जी हैं। हमारी लड़ाई इंसाफ के लिए और आरोपियों को सजा दिलवाना है। इस समय विधानसभा सीट की तो बात करना भी बेमानी है। एक घंटे बाद दूसरी पोस्ट में सिद्धू ने फिर लिखा आप ना इधर-उधर की बात करें बताएं? – कि गुरु साहिब की बेअदबी का इंसाफ़ क्यों न हुआ … नेतृत्व पे सवाल है? मंशा पे बवाल है!!

ये हैं मायने
सिद्धू को पार्टी पूछ कर दिए उथल-पुथल के संकेत

जिस तरह कैप्टन ने सिद्धू को घेरा है, उससे स्पष्ट है कि बड़बोले होना ही काफी नहीं है, पार्टी व सरकार के लिए काम करना भी जरूरी है। सिद्धू को उनकी पार्टी का पूछने के बाद और किस पार्टी में जा रहे हैं, के संकेतों से साफ है कि पंजाब कांग्रेस में एक बार फिर उथलपुथल होने वाली है।ये भी साफ है, सिद्धू को पार्टी या सरकार में कोई पद मिलने की संभावना नहीं है।

इधर, बिट्‌टू बोले

सिद्धू को सम्मान हजम नहीं हुआ, अब अपनी पार्टी बनाएं

सांसद रवनीत बिट्टू ने कहा,अब कैप्टन ने सिद्दू को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। अब सिद्दू अपनी पार्टी बनाएं। हम देखते ह कौन से कांग्रेस नेता सिद्दू के साथ जाते हैं। सिद्दू गैर कांग्रेसी नेता थे, पार्टी ने फिर भी उनको जरूरत से ज्यादा मान सम्मान दिया। जो सिद्दू को वो मान सम्मान हजम नही हुआ। सिद्दू एक सांप की तरह है। जो बीच में रह कर ही डसते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Other From The World

Related Posts

Treading News

Latest Post

Unlawful shops will open in Jalandhar from 9 am to 3 pm from Monday to Friday, if the Corona precautions are broken, the shop will be sealed for 7 days | जालंधर में सोमवार से शुक्रवार सुबह 9 से दोपहर 3 बजे तक खुलेंगी गैरजरूरी दुकानें, कोरोना सावधानियां तोड़ी तो 7 दिन के लिए सील होगी दुकान

After the meeting with the minister, the strike of the revenue officers of Punjab postponed till 21, there will be a registry in the tehsils from Thursday. | मंत्री गुरप्रीत कांगड़ के साथ बैठक के बाद पंजाब के रेवेन्यू अफसरों की हड़ताल 21 तक टली, गुरुवार से तहसीलों में होगी रजिस्ट्री